Rajesh Exports Story: 10,000 के उधार से कैसे बनाई 13,800 करोड़ की कंपनी?

Rajesh Exports Story: हमारे देश की एक खास बात है की यहा के लोग जल्दी हर नहीं मानते है | अगर उन्हे कुछ करना है तो मरते दम तक कर ही देते है | देश मे बिजनेस करने के पैसा हो न हो लोग अपना बिजनेस शुरू कर ही लेते है | आज की इस लेख मे ऐसे एक व्यक्ति के बारे मे बताएंगे जिन्होंने अपने दम पर मात्र 10,000 का लोन लेकर आज एक बहुत बड़ी करोड़ों की कंपनी बना दी है |

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Instagram Group Join Now
Rajesh Exports Story

आपको बात दे की हम बात कर रहे भारत के बड़े उद्योगपति Rajesh Mehta के बारे मे जिनके कंपनी का नाम Rajesh Exports है |Rajesh Mehta अपने मेहनत और बुद्धि के दाम पर आज इस कंपनी को 13,800 करोड़ रुपए का बना डाला है | Rajesh Mehta को लोग आज Rajesh Exports के नाम से जानते है लोग इन्हे सोने का व्यापारी भी कहते है |

इसलिए आज के इस लेख में हम आपको Rajesh Exports Story के बारे में बताने वाले हैं, साथ ही में हम ये भी जानेंगे कि Rajesh Mehta ने कैसे इस कंपनी को आज एक करोड़ो की कंपनी बना दी हैं। आपको ये भी बता दें कि कुछ साल पहले ही इन्होंने कंपनी को stock market में भी लिस्ट कराया

Table of Contents

Whatsapp Group Join
Telegram channel Join

राजेश मेहता के शुरुवाती दिन

Rajesh Exports Story

राजेश मेहता एक गुजरात के रहने वाले है। उन्होंने अपने बचपन से ही डॉक्टर बनने का सपना देखा था, लेकिन उनकी किस्मत में कुछ और लिखा गया था। उनके पिताजी का नाम जसवंतरी मेहता था, जो ज्वेलरी व्यापार में निर्माता और व्यापारी थे। उनके पिता गुजरात से कर्नाटक के बेंगलुरु जिले में अपने व्यापार के कारण चले गए थे, जिसके कारण राजेश की शिक्षा भी वहीं हुई।

राजेश ने अपनी शिक्षा के दौरान, सिर्फ 16 साल की उम्र में, अपने पिताजी के व्यापार में साथी के रूप में शामिल हो गए थे। उन्होंने ज्वेलरी उद्योग में बड़ी सफलता पाने का संकल्प लिया और उन्होंने Rajesh Exports कंपनी की स्थापना की।

राजेश मेहता: 10,000 रुपये से शुरू किया और बना डाली 13,800 करोड़ की कंपनी

राजेश को ज्वैलरी का कारोबार शुरू करने का विचार आया। उन्होंने अपने भाई से 2,000 रुपये उधार लेकर और बैंक से 8,000 रुपये का कर्ज लेकर 1982 में अपनी कंपनी, राजेश एक्सपोर्ट्स की शुरुआत की। शुरुआत में उन्होंने चेन्नई से ज्वैलरी खरीदकर गुजरात में बेचना शुरू किया। कुछ समय बाद उन्होंने अपने कारोबार का विस्तार किया और हैदराबाद और चेन्नई तक पहुंच गए।

1989 में राजेश ने सोने के आभूषण बनाने का कारोबार शुरू किया। उन्होंने बेंगलुरु में एक छोटी सी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट शुरू की। शुरू में उन्होंने अपनी कंपनी के उत्पादों को केवल भारत में बेचा, लेकिन बाद में उन्होंने विदेशों में निर्यात करना शुरू कर दिया।

राजेश की मेहनत और लगन ने उन्हें सफलता दिलाई। उनकी कंपनी राजेश एक्सपोर्ट्स आज भारत की सबसे बड़ी गोल्ड एक्सपोर्टर कंपनी है। कंपनी का सालाना कारोबार 13,800 करोड़ रुपये से अधिक है।

राजेश एक्सपोर्ट्स: स्टॉक मार्केट में लिस्टेड भारत की सबसे बड़ी सोने की कंपनी

आपको ये भी बता दें कि राजेश एक्सपोर्ट्स लिमिटेड एक Public कंपनी है और यह भारतीय स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) दोनों में liste है। कंपनी का मार्केट कैपिटलाइज़ेशन 2023 में ₹13,800 करोड़ था।राजेश एक्सपोर्ट्स की सालाना सेल लगभग 2.9 ट्रिलियन रुपये है।

कंपनी का मार्केट कैप 13,800 करोड़ रुपये है। कंपनी दुनिया भर में 400 टन से अधिक सोने के आभूषणों का निर्माण करती है।राजेश एक्सपोर्ट्स लिमिटेड के पास स्विट्जरलैंड में भी एक सोने की रिफाइनरी है। यह रिफाइनरी दुनिया की सबसे बड़ी सोने की रिफाइनरीओं में से एक है।

Rajesh Mehta Interview

Rajesh Exports Story Net Worth Overview

Article TitleRajesh Exports Story
Startup NameRajesh Exports
FounderRajesh Mehta
HomeplaceGujarat, India
Revenue (FY21)Approx. $32 Billion
Official Websitehttp://rajeshindia.com/

आशा है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा और आपने Rajesh Exports Story के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त की होगी। इस अनुभव को अपने दोस्तों के साथ साझा करना न भूलें ताकि वे भी Rajesh Exports Story से प्रेरित हो सकें। और यदि आप और बिजनेस से जुड़ी कहानियां पढ़ना चाहते हैं, तो कृपया हमारे Business पेज पर जाएं।